सरकार झुकती है, बस उसे झुकानेवाला चाहिये !

किसान अंदोलन की बहोत बडी जीत हुई, यह संविधान की जीत है, गणतंत्र की जीत है ।

यह जरुरी था, सरकार मनमानी कारभार करके संविधान के खिलाफ काम कर रही है । इसे रोखणा होगा और इसकी शुरुवात अपने किसान भाईयोने की है ।

लागतार इतने लंबे अंतराल के लिए धरना करना एक साहस की बात है । सरकार के गलत इरादो को वापीस लेनेको मजबूर किया किसान भाईयोने ।

पिचले कई सालो मे कई ऐसे आंदोलनो को कुचलनेमे कामियाब रही सरकार, पर इस बार टक्कर थी हमारे पालनहार किसान भाईयोके साथ वो भला कहा पिछे हटते ।

हर प्रकार की बल का इस्तमाल किया सरकार ने लेकिन हमारे किसान भाई एक इंच भी पिचे नही हाटे ।

इन्होने देश को दिखा दिया है की लोकशक्ती के आगे सरकार झुकती है बस इसे झुकानेवाला चाहिये । इसिकीं बदौलत आखिर सरकार ने बनाये हुए ३ कृषी कानून वापीस लिए।

मेरे अन्नदाता किसान भाइयों की अखंड एकटा को सलाम ।

जय जवान ।
जय किसान ।।

– ऍड. प्रेमसागर लहू गवळी

मो. 7710932406

Leave a Reply

Your email address will not be published.