किसी प्रिय की मृत्यु होने पर विपश्यी सदस्य मृतक के लिये क्या करें?

मृतक के लिये साधना ही करे।
विपश्यना की हर बैठक के बाद मन ही मन मृतक को याद करे और संकल्प करे की मेरी साधना के पूण्य में आप भी भागीदार हों।
मृतक का इस पूण्य-वितरण से बढ़कर और कोई कल्याणकारी श्राद्ध नही हो सकता।
🌷विपश्यना की हर बैठक के बाद जब मंगल मैत्री का अभ्यास करें तो सभी प्राणियो की मंगल कामना के साथ-साथ मृतक को याद कर उसके प्रति विशेष मंगल भावना करें।
” तुम इस समय जहाँ हों, जिस अवस्था में हों, जिस लोक में हों, जिस योनि में हों- तुम्हारा मंगल हो! तुम्हारा कल्याण हो! तुम्हारी स्वस्तिमुक्ति हो! तुम धर्म के पथ पर आगे बढ़कर भवचक्र से शीघ्र छुटकारा पाओ! “
🍁विपश्यना साधना द्वारा चित्त को यथासंभव शांत, स्थिर और निर्मल करके जो मंगल मैत्री की जाती है वह बड़ी बलशालिनी होती है, प्रभावशालिनी होती है, कल्याणकारी होती है।
निर्मल चित्त के कारण मैत्री करते समय जो पुलक- रोमांच होता है, उससे मैत्री की तरंगे तीव्र हो जाती हैं, और मृतक व्यक्ति जहाँ कहीं भी हो, जिस किसी अवस्था में हो, इन तरंगो के संपर्क से पुलकित हो उठता है, आह्लाद- प्रल्हाद से भर उठता है।
यह संभव है कि उसे अपने पूर्व जन्म की रंचमात्र भी स्मृति न हो और वह यह भी न जाने कि कोई उसे मैत्री भेज रहा है, पर फिर भी प्रभावित होता है और लाभान्वित होता है।भले कुछ समय के लिये ही सही वह प्रसन्नचित्त हो उठता है। धर्मपथ की और आकर्षित होता है।
ऐसी मैत्री बड़ी सार्थक होती है, सुफलदायिनी होती है।
🌼इसके विपरीत यदि कोई साधक जब कभी अपने प्रिय मृतक की याद में दुखी होता है, व्याकुल होता है तो ये व्याकुलता की तरंगे बड़ी अनर्थकारिणी होती हैं। मृतक जहाँ कहीं हो, जिस किसी अवस्था में हो, ये तरंगे जब उसे छूती हैं तो वह बैचन हो उठता है। वह जनता भी नही की ऐसा क्यों हो रहा है? पर दुखियारा तो हो ही जाता है।
🌻साधक यह तो चाहता ही है कि मेरा प्रिय गया सो तो गया, पर वह जहाँ कहीं भी हो सुखी रहे, शांत रहे, मंगळलाभी रहे, धर्मलाभी रहे।
ऐसा चाहते हुए भी अपनी नासमझी के कारण करता यह है कि अपने प्रिय को व्याकुल, बैचन, अशांत बनाता है।
🌸अतः विपश्यी साधक यह होश रखे कि जब जब उसे प्रिय की याद आये, मैत्री ही जागे। भूलकर भी विषाद न जगने पाये, विलाप न जगने पाये।
——
🌷 समता🌷
अगर कोई दुखी होकर रो रहा है तो स्वंय समता में रहे और उसे कुछ सांत्वना(console)प्रदान कर उसका रोना बंद करने में मदद करें।
उसके साथ रोकर तो अपने को दुखी बनायेगे और वह व्यक्ति और दुखी होगा।
इसलिए कभी रोना मत।
🌷 ऐसा कुछ होते ही अपनी संवेदना को देखो, और समता में रहो तो देखोगे की मन को इस परिस्थिति का सामना करने के लिए बहुत बल मिल गया है।
तब किसी को जो शब्द कहें जायेंगे वे अधिक प्रभावशाली होंगे।
अगर खुद भीतर से विचलित होंगे तो आपके शब्द भले ही वे धर्म के शब्द होंगे,निरर्थक(non fruitful)होंगे।
इसलिए खुद संतुलित(समता) में रहें।
इस विद्या से संतुलित रहने में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.